जिला ग्राम्य विकास अभिकरण

जिला ग्राम्य विकास अभिकरण हरिद्वार
विभाग के प्रमुख: संजीव कुमार राय
लैंडलाइन नंबर: 01334-23946 , मोबाइल न: 9410168610
ई-मेल आईडी: pddrda2007@gmail[dot]com


विभाग के बारे में: गरीबी-रोधी कार्यक्रम के लिए जिला स्तर पर एक प्रभावी अभिकरण की आवश्यकता के मद्देनजर जिला ग्राम्य विकास अभिकरणों को सशक्त बनाने के लिए ०१-०४-१९९९ से नई केंद्र प्रायोजित योजना चलाई गई है इसके अनुसार इनकी प्रशासनिक लागत को पृथक बजटगत प्रावधान करके पूरा किया जायेगा यह योजना जिसमे केंद्र की ७५% और राज्य की २५% हिस्सेदारी को आधार बनाया गया है जिला ग्राम्य विकास अभिकरणों सशक्त तथा पेशेवर बनाने की और केन्द्रित है
जनपद में कार्यक्रमों की योजना, क्रियान्वन, अनुश्रवण एवं मूल्यांकन की प्रभारी संस्था जिला ग्राम्य विकास अभिकरण है जिसके प्रमुख कार्य निम्नवत है
• जनपद तथा विकास खंड स्तर की संस्थाओ को इन सभी के द्वारा संपन्न किये जाने वाले कार्यक्रमों तथा कार्यो के मनको एवं आवश्यकताओ के विषय में जानकारी प्रदान करना .
• सर्वेक्षण आदि का समन्वय तथा देख रेख करना, विकास खंडो के सन्दर्भ योजनाये तथा वार्षिक कार्य योजना तैयार करना तदोपरान्त जिला योजना तैयार करना
• कार्यक्रमों का प्रभावी क्रियान्वन सुनिश्चित करने हेतु शासकीय एवं गैर शासकीय संस्थाओ द्वारा कार्यक्रमों की मोनिटरिंग तथा मूल्यांकन करना.
• अंतरक्षेत्रीय तथा अन्तर्विभागीय समन्वय एवं सहयोग सुनिश्चित करना
• कार्यक्रमों की उपलब्धियों का प्रचार प्रसार करना एवं जन सामान्य को उसकी जानकारी देना कार्यक्रम के विषय में जागरूकता देना .
• शासन को निर्धारित प्रारूपों पर मासिक / पाक्षिक / वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत करना.

विवरण:

  1. प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण)- गरीबी-रोधी कार्यक्रम के लिए जिला स्तर पर एक प्रभावी अभिकरण की आवश्यकता के मद्देनजर जिला ग्राम्य विकास अभिकरणों को सशक्त बनाने के लिए 01-04-1999 से नई केंद्र प्रायोजित योजना चलाई गई है।
  2. रास्ट्रीय ग्रामीण आजिविका मिशन (डे एन आर एल एम् )- राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) जून 2011 में भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय (एमओआरडी) द्वारा शुरू किया गया था। विश्व बैंक द्वारा निवेश समर्थन के माध्यम से सहायता प्राप्त, मिशन का लक्ष्य ग्रामीण गरीबों के कुशल और प्रभावी संस्थागत प्लेटफॉर्म बनाना है, जिससे उन्हें स्थायी आजीविका में वृद्धि और वित्तीय सेवाओं में सुधार के माध्यम से घरेलू आय बढ़ाने में मदद मिलती है।
  3. सांसद स्थानीय क्षेत्र विकास निधी-सांसद लोकल एरिया डेवलपमेंट डिवीजन के सदस्यों को सांसद लोकल एरिया डेवलपमेंट स्कीम (एमपीएलडीएस) के सदस्यों के कार्यान्वयन की ज़िम्मेदारी सौंपी गई है। इस योजना के तहत, प्रत्येक सांसद के पास जिला कलेक्टर को उनके क्षेत्र में 5 करोड़ रूपए प्रति वर्ष की कार्यवाही के लिए सुझाव देने का विकल्प होता है।
  4. दीन दयाल उपाध्याय-ग्रामीण कौशल योजना – ग्रामीण विकास मंत्रालय (एमओआरडी) ने 25 सितंबर 2014 को दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना (डीडीयू-जीकेवाई) अंत्योदय दिवस की घोषणा की। डीडीयू-जीकेवाई राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) का हिस्सा है, जो दोहरे उद्देश्यों के साथ कार्यरत है ग्रामीण गरीब परिवारों की आय में विविधता जोड़ने और ग्रामीण युवाओं की करियर आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए।
  5. श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशन- भारत के आंकड़ों की जनगणना के अनुसार, भारत में ग्रामीण आबादी 833 मिलियन है, जो कुल जनसंख्या का लगभग 68% है। इसके अलावा, 2001-2011 की अवधि के दौरान ग्रामीण आबादी में 12% की वृद्धि हुई है और इसी अवधि के दौरान 2279 इकाइयों द्वारा गांवों की पूर्ण संख्या में वृद्धि हुई है।
    देश में ग्रामीण इलाकों के बड़े हिस्से स्टैंड-अलोन बस्तियों नहीं हैं बल्कि बस्तियों के समूह का हिस्सा हैं, जो एक दूसरे के अपेक्षाकृत निकट हैं। इसलिए, भारत सरकार ने इस बात को स्वीकार करते हुए श्यामा प्रसाद मुखर्जी जीआरपी मिशन (एसपीएमआरएम) का प्रस्ताव दिया है, जिसका उद्देश्य आर्थिक, सामाजिक और भौतिक आधारभूत सुविधाओं की प्रावधान करके ऐसे ग्रामीण क्षेत्रों को विकसित करना है।

विवरण के लिए कृपया देखें